छौड़ाही पुलिस बिहार बेगूसराय भारत मुजफ्फरपुर लॉक डाउन हत्या

पिता और माता दिल्ली में करा रहे हैं इलाज एकलौते पुत्र की मुजफ्फरपुर में हो गई हत्या, मृतक था मुजफ्फरपुर बाइक शोरूम में कार्यरत। स्वजन का शोरूम के गार्ड पर हत्या का संदेह।

बलवंत चौधरी
 (बेगूसराय) :  छौड़ाही ओपी क्षेत्र के अमारी पंचायत के चक्का निवासी आंगनवाड़ी सहायिका अपने पति के कैंसर का इलाज कराने दिल्ली गई। जहां लॉक डाउन के कारण दोनों फंसे हुए हैं। इधर मुजफ्फरपुर के यामाहा शोरूम में कार्यरत उनके इकलौते पुत्र की निर्मम हत्या कर शव को सकरा रेलवे स्टेशन के पास फेंक दिया गया। हत्यारे पुलिस की मिलीभगत से मामला रफा-दफा करना चाह रहे थे लेकिन स्वजन की सक्रियता से हत्या का मामला अब तूल पकड़ लिया है।

चक्का निवासी दिलीप सहनी का पुत्र अविनाश सहनी काफी दिनों से मुजफ्फरपुर जीरोमाइल स्थित यामाहा बाईक शोरूम में फाइनेंस विभाग में कार्यरत था।

मृतक के माता, चाचा आदि स्वजनों ने बताया कि अविनाश14 अप्रेल को पैदल मुजफ्फरपुर से चक्का गांव चलने की सूचना दी। फीर उसका मोबाइल बंद हो गया। लेकिन शोरूम के गार्ड का रोज फोन आ रहा था जिसमें अविनाश के संबंध में तरह तरह की बात कह रहा था। शनिवार को कॉल कर गार्ड ने बताया कि अविनाश का शव सकरा स्टेशन के पास बरामद हुआ है। सूचना पर जब स्वजन सकरा थाना पहुंच शव डिस्पोजल हो चुका था। फोटो के आधार पर अविनाश के शव होने की पुष्टि हुई। स्वजनों का कहना है कि तस्वीर में पिटाई का निशान स्पष्ट दिख रहा था। स्वजनों ने बताया कि अविनाश की हत्या की गई है।

घर को पैदल निकले अविनाश का अपहरण कर पीट पीटकर हत्या कर शव को क्षत विक्षत कर पहचान मिटाने के लिए रेलवे लाइन पर फेंक दिया गया था। लेकिन कुत्तों ने शव को घसीट कर गड्ढे में ले गया। जिस कारण शव की पहचान हो सकी। स्वजनों का आरोप है कि शोरूम के गार्ड व मालिक का अविनाश की हत्या में हाथ है। क्योंकि, ईमेल व्हाट्सएप से हमलोग मुजफ्फरपुर पुलिस को अविनाश के रास्ते से गायब होने एवं अनहोनी के संबंध में आवेदन दिया। लेकिन उनके आवेदन को साइड कर  सकरा पुलिस हत्यारों को बचाने हेतु शोरूम के गार्ड के आवेदन पर लापता होने का सनहा दर्ज कर लिया। शनिवार को भी स्वजन के आवेदन पर हत्या का प्राथमिकी दर्ज नहीं कर हम लोगों को कोरोना का भय दिखा सकरा और अहियापुर थाना से भगा दिया।
स्वजनों का कहना है कि यामहा एजेंसी के एक कर्मचारी का घर अविनाश के शव पाए जाने वाले स्थान से बगल में ही है। अविनाश की हत्या में यामाहा एजेंसी के कर्मचारी राम सिंह, अब्बास, भोला और गुड्डू की संलिप्तता है।
 दूसरी तरफ मृत्क के पिता जो कैंसर से जंग लड़ रहे हैं और माता अपने एकलौते पुत्र का अंतिम दर्शन और संस्कार भी नहीं कर सके। दिल्ली में फंसे दोनों का रो रो कर हाल खराब है।
इस संबंध में आज स्वजनों द्वारा सकरा थाना संपर्क किया गया तो वहां के थानाध्यक्ष का कहना था कि अज्ञात शव मिला था। शोरूम के गार्ड के आवेदन पर पूर्व में सनहा दर्ज हो चुका है। अब स्वजनों ने अविनाश सहनी के रूप में मृतक की पहचान की है। हत्या की भी आशंका जताई जा रही है। वरीय अधिकारियों से दिशानिर्देश लिया जा रहा है उचित धारा लगा कारवाई की जाएगी

 

 3,895 total views,  3 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *