धरना न्यूज बिहार भारत मधेपुरा विश्वविद्यालय वेतन शिक्षक सरकार

भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय मधेपुरा में अतिथि शिक्षकों का सांकेतिक धरना शुरू ।

ज्ञान मिश्रा रिपोर्टर।
मधेपुरा : विश्वविद्यालय अनुदान आयोग , बिहार सरकार व राजभवन के गाइड लाईन पर बी एन एम यु मधेपुरा द्वारा विधिवत बहाल 196 अतिथि शिक्षकों को अभी तक वेतन विश्वविद्यालय द्वारा नहीं दिए जाने के कारण पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत आज विश्वविद्यालय धरना स्थल पर संघ के निर्देशानुसार अतिथि शिक्षक धरना पर बैठ गये हैं । कोरोना लॉक डाउन के मद्दे नजर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए वे लोग अपनी मांग पर डटे दीख रहे हैं ।
 नंबर से जनवरी माह तक बहाल कुल 196 इन असिस्टेंट प्रोफेसरों को कोरोना काल के इस महासंकट में एक भी माह का वेतन न देना विश्वविद्यालय के तानाशाहपूर्ण रवैया प्रतीत हो रहा है । अगल बगल के विश्वविद्यालय नें अपने अतिथि शिक्षकों को वेतन दे दिया है जबकि यहां का प्रशासन बहाली के सात माह बीत जाने के बाद भी एक भी महीना का वेतन भुगतान नहीं किया है ।

केंद्र सरकार नें भी अपने आदेश में कहा है कि लॉक डाउन में किसी का वेतन नहीं रोकना है किन्तु अन्तर्जिला के वैसे अतिथि शिक्षक जो विभिन्न कॉलेज में बहाल हैं वे परिवार के साथ यहां रह रहे हैं था अन्य अतिथि शिक्षक जो पूर्व में कोई ना कोई कार्य कर जीविकोपार्जन किया करते थे अतिथि शिक्षक बनने के बाद उनकी भी आर्थिक स्थिति बद से बदतर हो गयी है ।  संघ के अध्यक्ष डॉ.सतीश कुमार दास एवं  धरना के संयोजक डॉ.राजीव जोशी , मॉनिटर डॉ.दीपक कुमार नें बताया कि संघ द्वारा विश्वविद्यालय को दी गयी वेतन भुगतान से संबंधित आवेदन पर निर्धारित समय के भीतर हम सभी का वेतन भुगतान नहीं करती है तो विश्वविद्यालय को दिए गए पूर्व अल्टीमेटम के तहत सभी अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चले जाएंगे । विदित हो कि अतिथि शिक्षक के महाविद्यालयों में योगदान के बाद पठन पाठन के क्षेत्र में वृहत प्रगति हुई है , ऑन लाईन पढ़ाई में भी इन अतिथि शिक्षकों का अहम योगदान को विश्वविद्यालय नें भी स्वीकारा है । लॉक डाउन में भीड़ बढ़े नहीं इस हेतु अन्य अतिथि शिक्षकों को तत्काल सांकेतिक धरना में आने से संघ रोक लगा दी है ।

 2,925 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *