गया न्यूज बिहार भारत सम्मानित

नेल्सन मंडेला नोबल पीस अवार्ड मिलने के बाद मुंबई से गया लौटे मेयर-डिप्टी मेयर

धीरज गुप्ता की रिपोर्ट।
गया अंर्तराष्ट्रीय एयपोर्ट पर हजारों की संख्या में गाजे-बाजे व फूल-मालाओ से लोगों ने किया भव्य जोरदार स्वागत किया गया ,गया नगर निगम के मेयर वीरेंद्र कुमार उर्फ गणेश पासवान, डिप्टी मेयर अखौरी ओंकार नाथ उर्फ मोहन श्रीवास्तव को नेल्सन मंडेला नोबल पीस अवार्ड व मानद डॉक्टरेट की उपाधी मिलने के बाद मुंबई से शनिवार की शाम गया एयरपोर्ट पहुंचें।जहां हजारों की संख्या में गाजे-बाजे व फूल-मालाओं से लोगों ने जोरदार भव्य स्वागत किया। इस मौके पार्षद, कई गणमान्य व्यक्ति व बुद्धजीवी लोग उपस्थित थे। एयरपोर्ट पर सैकड़ो गाड़ियों के काफिला उनके स्वागत के लिए जुटा था। काफिला एयरपोर्ट से होकर गया शहर के विभिन्न मुहल्लों में गुजरा। इस दौरान मेयर-डिप्टी मेयर के नारे भी लग रहे थे।

प्रसिद्ध विष्णुपद मंदिर व शक्ति पीठ मां मंगलागौरी मंदिर में विशेष पूजा अर्चना किया है।
 राजनीति व समाजसेवी के क्षेत्र उल्लेखनीय कार्यों को लेकर मुंबई में गुरुवार को नेल्सन मंडेला नोबेल पीस अवॉर्ड 2022 से नवाजा गया था। जो कि संत मदर टैरेसा यूनिवर्सिटी, जेबीआर हार्वर्ड यूएसए व कैंब्रिज स्कूल ऑफ डिस्टेंस एजुकेशन यूके द्वारा दिया गया है।
इस मौके पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए मेयर वीरेंद्र कुमार ने कहा कि यह जो अवार्ड हमें मिला है, हम उसे गया वासियों को समर्पित करते हैं क्योंकि यह उन्हीं के प्यार और सहयोग की बदौलत मिला है। गया के लोगों को जो सम्मान महाराष्ट्र में मिला वह अपने आप में गौरव की बात है। इसे हम जनता को समर्पित करते हैं। इसके अलावा कोरोना काल में साफ-सफाई, जागरूकता अभियान के तहत जिन निगम कर्मियों और वार्ड पार्षदों ने हमें सहयोग किया वह भी बधाई के पात्र हैं। आने वाले समय में शहर का और भी व्यापक विकास होगा। जो गया शहर सबसे गंदा शहर के लिए जाना जाता था, आज वह बिहार में नंबर वन शहर है। उन्होंने कहा कि आगे भी जनता का जनता हमें मौका देती है तो शहर का और भी व्यापक विकास करेंगे।

डिप्टी मेयर मोहन श्रीवास्तव ने कहा कि गयाजी भगवान विष्णु और भगवान बुद्ध की नगरी है। ऐसे में ऊपर वाले और गया के लोगों का आशीर्वाद हमें मिला है। जिसकी बदौलत नेल्सन मंडेला पीस अवॉर्ड से हमें ने सम्मानित किया गया। यह हमारे लिए नहीं बल्कि गयाजी के लिए गौरव की बात है। सिर्फ गया ही नहीं बल्कि बिहार और हिंदुस्तान के लिए भी यह बहुत बड़ी बात है। कोरोना काल में जो लोगों ने कार्य किया, वह अपने आप में काबिले तारीफ है। शहर में कई ऐतिहासिक कार्य किए गए है, जिसकी बदौलत यह अवार्ड हमें मिला है। जिन लोगों ने हमें सम्मानित किया है, उन्होंने यह भी कहा है कि आप लोगों के सामाजिक कार्य को देखते हुए आने वाले समय में मॉरीशस और दुबई में भी इससे भी बड़े सम्मान से नवाजा जाएगा। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने हमें बदनाम करने की साजिश की। हमें भगोड़ा साबित किया गया। लेकिन आज हमारा कार्य बोल रहा है कि हम क्या हैं? ऐसे लोगों को हम ज्यादा कुछ कहना नहीं चाहेंगे, उन्हें अपने आप में जवाब मिल गया है। आज का यह समय बताता है कि भगोड़ा कौन साबित हुआ ?  हम समस्त गयाजी वासियों को यह सामान समर्पित करते हैं।

इस मौके पर पार्षद ओम प्रकाश सिंह, विनोद यादव, गजेंद्र सिंह, जितेंद्र कुमार, उदय श्रीवास्तव, दीपक चंद्रवंशी सहित अन्य मौजूद थे।

 8,717 total views,  6 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published.