न्यूज पटना पदयात्रा बिहार भारत

MLC अफाक अहमद और MLC सच्चिदानंद राय का बड़ा बयान – जन सुराज अभियान का मकसद है बिहार में अच्छी शिक्षा व्यवस्था, किसानों की खुशहाली और युवाओं को रोजगार, प्रशांत किशोर की मुहिम से जुड़ रहे लाखों लोग ।

जन सुराज समर्थित नवनिर्वाचित विधान पार्षद अफाक अहमद और जन सुराज अभियान से जुड़े विधान पार्षद सच्चिदानंद राय ने जन सुराज कार्यालय पटना में एक महत्वपूर्ण प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। जन सुराज से जुड़े सेवानिवृत IPS राकेश कुमार मिश्रा, छत्तीसगढ़ के पूर्व डीजीपी संत कुमार पासवान और शिक्षाविद् ज्ञान देव मणि त्रिपाठी प्रेस कॉन्फ्रेंस में उपस्थित रहे। सभी लोगों ने अफाक अहमद को विधान परिषद चुनाव में जीत की बधाई और शुभकामनाएं दी।
हाल ही में सारण शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र में विधान परिषद की सीट पर हुए उप-चुनाव में महागठबंधन प्रत्याशी आनंद पुष्कर को 674 मतों से हराकर विधान परिषद पहुंचे अफाक अहमद ने अपने चुनाव के अनुभव को साझा करते हुए प्रशांत किशोर और जन सुराज अभियान को इस जीत का श्रेय दिया। विधान पार्षद सचिदानंद राय जन सुराज अभियान और प्रशांत किशोर के साथ शुरुआत से जुड़े हुए हैं। उन्होंने भी बिहार में व्यवस्था परिवर्तन की इस लड़ाई में जाति-धर्म, भारत-पाकिस्तान से ऊपर उठकर सबको बिहार के बेहतर भविष्य के लिए एक साथ एक मंच पर आने का आह्वान किया।

जन सुराज मुख्यालय, पटना में पत्रकारों को संबोधित करते हुए अफाक अहमद ने कहा कि प्रशांत किशोर जी के नेतृत्व में पिछले 209 दिनों से जन सुराज की पदयात्रा चल रही है। अभी पदयात्रा 6 जिलों में हो चुकी है। पदयात्रा के सूत्रधार प्रशांत किशोर प्रतिदिन 2 हजार से अधिक लोगों से मुलाकात कर रहे हैं। जिसमें पंचायती राज व्यवस्था से जुड़े के जनप्रतिनिधि, समाज के प्रबुद्ध लोग, युवा, महिलाएं, बुजुर्ग सभी शामिल हैं। जन सुराज अभियान के तहत अंबेडकर क्लब, कर्पूरी क्लब और पीके यूथ क्लब का गठन किया जा रहा है। जिसमें बिहार के युवाओं को पढ़ने और खेलने की उचित व्यवस्था के साथ विभिन्न-विभिन्न आयोजनों के माध्यम से युवाओं का सामाजिक उत्थान किया जा रहा है। जो युवा चुनाव लड़ना चाहते हैं, उनको भी इन क्लबों के माध्यम से चुनाव लड़ने की प्रक्रिया समझाई जा रही है। इन क्लबों के माध्यम से बिहार के युवाओं की शक्ति के माध्यम से, उनकी पहचान स्थापित की जा रही है।

सारण शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव जीत कर आए अफाक अहमद ने शिक्षा व्यवस्था पर जोर देते हुए कहा कि शिक्षा एक ऐसा हथियार है जिससे किसी समाज, किसी राज्य और किसी देश को बदला जा सकता है। लेकिन जब तक बिहार में शिक्षा व्यवस्था की स्थिति में कोई सुधार नहीं होगा तब तक बिहार की बदहाली को नहीं सुधारा जा सकता है। आज के समय में बिहार की जो स्थिति है, उसे देखकर कहा जा सकता है कि शिक्षा के नाम पर बिहार में एक सुरक्षित माहौल तैयार नहीं किया जा रहा है। बिहार आज देश में शिक्षा के स्तर पर सबसे पिछड़ा हुआ है। आज बिहार के बच्चे अच्छी शिक्षा के लिए कोटा, दिल्ली जैसे शहरों में जा रहे हैं। हमको बिहार में ऐसी शिक्षा व्यवस्था स्थापित करनी होगी जिसमें बिहार की प्रतिभा को बिहार में ही अच्छी शिक्षा मिल सके, जिससे बिहार देश में प्रबुद्ध राज्य के रूप में स्थापित हो सके।

जन सुराज मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए विधान पार्षद सच्चिदानंद राय ने वर्तमान विधायकों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि जन सुराज पदयात्रा से वो प्रयास हो रहा है जिसकी वजह से 2025 के विधानसभा चुनाव में जो आज के निर्वाचित विधायक हैं, उनमें से करीब 80 प्रतिशत विधायक जो काम नहीं करते हैं, वो स्थाई रूप से राजनीति से सन्यास ले लेंगे। ये विधायक चुनाव हारेंगे नहीं, इनके पास साहस नहीं बचेगा कि ये जनता के बीच जाकर वोट मांग सके। जो बचे हुए 20 प्रतिशत विधायक हैं, जो अच्छा काम कर रहे हैं लेकिन वो भूसे में सुई की तरह है जिनको खोजने के लिए चुंबक की जरूरत पड़ेगी तो अभी जो प्रयास हो रहा है उसमें जो ये अच्छे लोग हैं, ये आगे भी राजनीति करेंगे लेकिन जो अच्छे नहीं उनको सन्यास लेना पड़ेगा। अब बिहार वो राजनीति देखने जा रहा है जिसकी संकल्पना हम लोगों ने की थी।
आगे उन्होंने कहा कि बिहार के बाहर धीरे-धीरे बिहारी शब्द गाली बनता जा रहा है, तो बिहार को सुधारने के लिए कोई बाहर से आएगा? नहीं ! बिहार के ही किसी व्यक्ति को खड़ा होना पड़ेगा। लेकिन जो लोग बिहार में रह रहे हैं उनको पता नहीं क्यों लग रहा है कि बिहार में सब कुछ ठीक है, और बिहार को जो लोग बाहर से देखते हैं उनको लगता है कि कुछ भी ठीक नहीं है। इसलिए प्रशांत किशोर ने मुहिम को शुरू किया है, जिसमें बिहार को अपने पैरों पर खड़ा कर सके। इस अभियान में कितनी सफलता मिलेगी? ये समय बताएगा लेकिन इस मुहिम के तहत एक लड़ाई लड़ी, जिसका परिणाम सफलता के रूप में, अफाक अहमद हम लोगों के सामने हैं। बिहार खड़ा होगा, बिहार के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलेगी, युवाओं को रोजगार मिलेगा और बिहार के किसान खुशहाल होंगे और ये होकर रहेगा।

News by :- komal patna

Loading

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *