टांसपोर्ट न्यूज बिहार बेगूसराय भारत लीची लॉक डाउन समस्तीपुर

पेड़ पर सड़ कर बर्बाद हो रहा लीची खरीदने नहीं पहुंच रहे व्यपारी। बाजार और ट्रासपोर्ट बंद रहने से हो रहा भाड़ी नुकसान।

बलवंत चौधरी ( सबकी खबर न्यूज रूम)
 (बेगूसराय) : बेगूसराय समस्तीपुर का सीमावर्ती मंझौल एवं रोसरा अनुमंडल अपने शाही बदामी एवं चाइनीज लीची के बंपर उत्पादन एवं बेहतरीन स्वाद के लिए विश्व विख्यात है। सैकड़ों ट्रक लीची देश के विभिन्न भागों तक यहां से पहुंचती रही है। लेकिन इस बार आंधी ओलावृष्टि बारिश ने पहले आधी फसल बर्बाद की बांकी लीची लॉक डाउन के कारण बाजार एवं ट्रांसपोर्ट बंद रखने की भेंट चढ रही है। करोड़ों का नुकसान उत्पादक किसानों को हो रहा है।

पेड़ पर बर्बाद हो रहा पका लीची : राम विनोद महतो, नरेंद्र कुमार, शंकर महतो, संजय सिंह आदि लीची उत्पादक किसान बताते हैं कि अभी लीची के सप्लाई का पिक समय रहना चाहिए। बारिश होने के बाद अब गर्मी हाई वोल्टेज में है। यह लीची के पकने का आदर्श समय है। पेड़ पर देखिए लाल लाल लीची रस से फटी जा रही है लेकिन एक भी व्यापारी खरीदने यहां तक नहीं पहुंच रहे हैं।

ट्रांसपोर्ट वाले कहते हैं अभी वाहन चलाना रिस्क का काम है। लीची सड़ने भी लगी है। दो-तीन दिन में पूरी तरह सर कर बर्बाद हो जाएगी। स्थानीय व्यापारी भी कहते हैं कि कोरोना के कारण लीची खरीदने से परहेज कर रहे हैं। किसानों ने बताया कि बारिश ओलावृष्टि एवं आंधी के कारण आधा फल पहले ही टूट कर गिर गया था। बचा फल लॉकडाउन की भेंट चढ़ रहा है। कोलकाता, दिल्ली, नोएडा, झारखंड आदि जगहों के व्यापारी कहते हैं कि इसको ले जाएंगे तो कहां बेचेंगे, सभी मुख्य बाजार बंद हैं। प्रोसेसिंग यूनिट नहीं रहने के कारण भी किसानों को परेशानी हो रही है। कोल्ड स्टोर में इतनी क्षमता नहीं है कि लीची को रखा जाए। किसानों के अनुसार करोड़ों रुपए की नुकसान से लीची उत्पादक किसान काफी परेशान हैं। इन लोगों ने सरकार से लीची उत्पादकों को मुआवजा देने की मांग की है।

 

 2,634 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *