न्यूज बिहार बेगूसराय भारत शव

परोरा पंचायत में शव को फंदे से लटाकाया, परिजनों मे छाया मातम। पुलिस कर रही मामले की छानबीन।

विनोद शर्मा की रिपोर्ट
छौड़ाही (बेगूसराय) : छौड़ाही में हत्या कर शव को फंदे पर लटका देने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार सुबह छौड़ाही ओपी क्षेत्र के डुमरी गांव निवासी 18 वर्ष के नितेश कुमार पासवान कि अपराधियों ने हत्या कर ऐजनी चिमनी के बंद कमरे में शव को फंदे से लटका दिया। पिता भोला पासवान ने गुरुवार की संध्या ही पुलिस मे पुत्र के गायब होने की शिकायत दी थी।
 इस संदर्भ में मृतक के स्वजनों ने बताया कि नितेश गुरुवार दिन के 10 बजे से ही गायब था। स्वजनों ने काफी खोजबीन भी किया गया लेकिन नही मिल सका। तब संध्या में छौड़ाही ओपी में लिखित शिकायत दर्ज करवाई थी।

शुक्रवार सुबह ग्रामीण खेती-बाड़ी और मवेशी चराने के लिए चिमनी की ओर गए थे। ऐजनी डूमरी के बीबीसी चीमनी के बगल का एक कमरा जिसमें चिमनी के लेबर रहते थे से लगातार मोबाइल फोन बजने की आवाज आ रही थी कोई उठा नहीं रहा था। जब वहां पहुंचे तो घर में गमछा के फंदे पर लटका शव देख लोगों का शोरगुल सुनकर सुन भारी संख्या में ग्रामीण जुट गए। शव देखे जाने की सूचना पर स्वजन भी वहां पहुंचे। उन्होंने फंदे पर झूल रहे शव की पहचान अपने पुत्र नितेश कुमार के रूप में की।
 दूसरी तरफ सुनसान जगह पर स्थित बीबीसी चिमनी ऐजनी डूमरी के जिस अस्थाई कमरे मे गमछा को फंदा बनाकर एक सिरा मृतक के गले में एवं दूसरा सिरा छत पर बंधी हुई थी। बगल में दो ईट रखी हुई थी। बगल के दूसरे कमरे में सिगरेट गुटका बिखरा पड़ा है। छत की पूरी ऊंचाई छह फिट की है। जब शव फंदे से नीचे उतारा गया तो देखा गया कि मृतक के गुप्तांग एवं मलद्वार से खून रिस रहा था। शव बरामद वाले कमरे के बगल वाले कमरे में भी बिजली का तार टूटा हुआ था। कई संदिग्ध चीजें भी बिखरा पड़ा था। घटनास्थल पर मौजूद लोगों का कहना था कि मृतक को गुरुवार की संध्या एक लड़की के साथ चिमनी ओर जाते देखा गया था।

चिमनी आज कल बंद है मजदूर नहीं रहते हैं ।लेकिन चिमनी के मुंशी चिमनी के ही एक कमरे में रहते हैं। उन्हें भी हत्या की जानकारी ग्रामीणों द्वारा ही मिलने की बात बताई गई। ग्रामीणों का कहना था कि अपराधियों ने किसी बात को लेकर युवक की हत्या कर शव को टांग दिया है। जिससे आत्महत्या का रूप लग सके। गांव में इस तरह की कई हत्या हुई है यह किसी सीरियल किलर का काम लग रहा है।
नितेश का शव मिलने के बाद मृतक की माता चंद्रकला देवी चाचा कैलाश पासवान आदि स्वजनों में कोहराम मचा हुआ है। वहीं आक्रोशित लोग हत्यारे की गिरफ्तारी की मांग करते हुए शव को लेकर थाना पहुंच गए। ग्रामीणों का कहना था कि गांव में लगातार पांच लोगों की इसी तरह हत्या हुई है। किसी भी कांड का पुलिस अब तक उद्भेदन नहीं कर सकी है। यह स्पष्ट रूप से हत्या का मामला है पुलिस आत्महत्या क्यों मान रही है। इसलिए यहां के पुलिस पर भरोसा नहीं है। ग्रामीणों को हंगामा करता देख पुलिस बैकफुट पर आई एवं ग्रामीणों के समक्ष हत्या एवं अपराधिक साजिश की प्राथमिकी दर्ज कर ली एवं शव को पोस्टमार्टम हेतु बेगूसराय भेज दिया।
मालूम हो कि छौड़ाही ओपी क्षेत्र में विगत पांच वर्षों के दौरान 18 शव संदिग्ध परिस्थितियों में फंदे पर लटके मिले हैं। एक भी मामले का पुलिस उद्भेदन नहीं कर सकी है।
 इस संदर्भ में ओपी अध्यक्ष राघवेंद्र कुमार का कहना है कि घटनास्थल पर पहुंच जांच कर रहे हैं। हत्या एवं अपराधिक साजिश की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज कर हत्यारों की गिरफ्तारी हेतु पुलिस जुट गई है।

 9,082 total views,  3 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *